Tags

, , , , , , , , ,

Movie : Silsila (1981)
Lyrics : Javed Akhtar
Artiste : Lata Mangeshkar and Kishore Kumar

Its eternal truth that to achieve goal one must dream, one needs have to have a dream. Javedsaab has woven the fact poetically.

***
Dekha Ek Khwaab To Yeh Silsile Hue
Door Tak Nigahon Mein Hain Gul Khile Hue
Yeh Gila Hai Aapki Nigahon Se
Phool Bhi Ho Darmiyaan To Faasle Hue
Dekha Ek Khwaab…

Meri Saanson Mein Basi Khushboo Teri
Yeh Tere Pyaar Ki Hai Jadugari
Teri Aawaz Hai Havaaon Mein
Pyar Ka Rang Hai Phizaaon Mein
Dhadkanon Mein Tere Geet Hain Mile Hue
Kya Kahun Ke Sharm Se Hain Lub Sile Hue
Dekha Ek Khwaab…

Mera Dil Hai Teri Panaahon Mein
Aa Chhupa Loon Tujhe Maein Baahon Mein
Teri Tasveer Hai Nigaahon Mein
Door Tak Roshni Hai Raahon Mein
Kal Agar Na Roshni Ke Kaafile Hue
Pyar Ke Hazaar Deep Hain Jale Hue
Dekha Ek Khwaab…
***
देखा एक ख्वाब तो यह सिलसिले हुए
दूर तक निगाहों में हैं गुल खिले हुए
यह गिला है आपकी निगाहों से
फूल भी हो दरमियाँ तो फासले हुए
देखा एक ख्वाब

मेरी साँसों में बसी खुशबू तेरी
यह तेरे प्यार कि है जादूगरी
तेरी आवाज़ है हवाओं में
प्यार का रंग है फिजाओं में
धडकनों में तेरे गीत हैं मिले हुए
क्या कहूँ के शर्म से हैं लुब सिले हुए
देखा एक ख्वाब

मेरा दिल है तेरी पनाहों में
छुपा लूं तुझे में बाहों में
तेरी तस्वीर है निगाहों में
दूर तक रौशनी है राहों में
कल अगर रौशनी के काफिले हुए
प्यार के हजार दीप हैं जले हुए
देखा एक ख्वाब
****


Technorati Tags: , ,
Site Search Tags: , ,Share this post:digg it|kick it|Email it|bookmark it|reddit|liveIt

Advertisements