Tags

, , , , , ,

Movie : Mere Huzoor (1968)
Track : Apne rukh par nigaah karne do
Singer : Mohd. Rafi
Composer : Shankar Jaikishan
Lyrics : Hasrat Jaipuri

If you have listened the song, the first sher sung by Mohd. Rafi is really romantic mood setter, it will melt you down.

***
Apne rukh par nigaah karne do
Khoobsurat gunaah karne do
rukh se parda hataao jaan-e-hayaa
aaj dil ko tabaah karne do

Rukh se zara naqaab utha do, mere huzoor
Jalwa phir ek baar dikha do, mere huzoor

Woh marmari se haath woh mehka huva badan
Takraaya Mere dil se, mohabbat ka ek chaman.
Mere bhi dil ka phool khila do, mere huzoor

Husn-o-jamaal aapka, sheeshe mein dekh kar
Madhosh ho chuka hoon main, jalwon ki raah par.
Gar ho sake to hosh mein laa do, mere huzoor.

Tum hamsafar mile ho mujhe is hayaat mein
mil jaaye jaise chand koyi sooni raat mein.
Jaaoge tum kahaan yeh bata do, mere huzoor
***
अपने रुख पर निगाह करने दो
खूबसूरत गुनाह करने दो
रुख से पर्दा हटाओ जान-ए-हया
आज दिल को तबाह करने दो

रुख से ज़रा नकाब उठा दो, मेरे हुज़ूर
जलवा फिर एक बार दिखा दो, मेरे हुज़ूर

वह मरमरी से हाथ वह महका हुवा बदन
टकराया मेरे दिल से, मोहब्बत का एक चमन.
मेरे भी दिल का फूल खिला दो, मेरे हुज़ूर

हुस्न-ओ-जमाल आपका, शीशे में देख कर
मदहोश हो चूका हूँ मैं, जलवों कि राह पर.
गर हो सके तो होश में ला दो, मेरे हुज़ूर.

तुम हमसफ़र मिले हो मुझे इस हयात में
मिल जाये जैसे चंद कोई सूनी रात में.
जाओगे तुम कहाँ यह बता दो, मेरे हुज़ूर
***

Listen the song …..
[odeo=http://odeo.com/audio/4590983/view]

Advertisements