Tags

, , , , ,

Album : Beyond Time (1987)
Title : Log har mode pe
Singer : Jagjit Singh
Lyrics : Rahat Indori
Music : Jagjit Singh

This ghazal aimed to apprehensive people who worry and think a lot before doing anything.
***
Log har mode pe ruk ruk ke sambhalte kyun hain,
itna darate hain to phir ghar se niklate kyon hain.

Main na jugnoo huin diya huin na koi tara huin,
roshniwale mere naam se jalte kyon hain.

Nind se mera taaluk nahin barson se,
khwab aa aa kay meri chhat pe tahelte kyon hain.

Mod hota hai jawani ka sambhalne ke liye,
aur sab log yahin akey fisalte kyon hain.
***
लोग हर मोड पे रूक रूक के सँभालते क्यों हैं,
इतना डरते हैं तो फिर घर से निकलते क्यों हैं.

मैं न जुगनू हुईं दिया हुईं न कोई तारा हुईं,
रोशनिवाले मेरे नाम से जलते क्यों हैं.

नींद से मेरा ताल्लुक नहीं बरसों से,
ख्वाब आ आ के मेरी छत पे टहेलते क्यों हैं.

मोड़ होता है जवानी का सँभालने के लिए,
और सब लोग यहीं आके फिसलते क्यों हैं.